Wednesday, June 29, 2011

अस्पताल में लापरवाही से एक औरत और उसके पेट का बच्चा मर जाये किसी को फर्क नहीं पड़ता

जब किसी महिला को बलात्कार और जुल्म कर उसे मार दिया जाता है तो सब इसे लेकर बड़ा दुःख जताते है लेकिन जब कोई महिला और उसके पेट का बच्चा मात्र सरकारी अस्पताल के डाक्टरों की लापरवाही से मर जाए तो क्या किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता । एक और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान महिलाओ के सुरक्षित प्रसव हेतु जननी सुरक्षा के ढिंढोरा पीट रहे है वही स्वास्थ विभाग का लापरवाह अमला महिलाओ व् शिशुओ को अकाल मौत के मुह में धकेल रहा है । २७ जून को कटनी में इसी तरह की घटना हुई है । पास के ही गाँव झलवारा निवासी भारत राजसिंह गोंड की २२ साल की पत्नी कुसुम को जब सुबह प्रसव दर्द शुरु हुआ और तो उसे अस्पताल जाने की लिए जननी सुरक्षा वाहन ही नहीं मिला .इस कारण उसे ट्रेन से कटनी लाकर प्रसव हेतु सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया । १ घंटे के बाद महिला का इलाज शुरु हो सका । जांच पड़ताल में मालुम हुआ की बचा पेट में मर चूका है और फिर बाद में उसका प्रसव कराया गया । कुसुम अस्पताल में इलाज के लिए तड़पती रही लेकिन उसकी एक नहीं सुनी गयी उसके साथ डाक्टरों ने अभद्रता भी की । इलाज के अभाव में वह तड़पती रही और उसकी मौत हो गयी। परिजनों ने आरोप लगाया है की अस्पताल में समय पर महिला का प्रसव नहीं कराया गया और लापरवाही के कारण उसके बच्चे के सर में घातक चोट लगने के कारण उसकी अकाल मौत हो गयी । परिजनों के अनुसार नवजात के सर से खून बह रहा था उसके बाद महिला का भी इलाज नहीं किया गया इसी कारण उनकी अकाल मौत हो गई ।इसके आगे अब कुछ भी नहीं लिखा जाता है क्योकि में भी बाल बच्चे वाला हूँ ।

Tuesday, June 28, 2011

खुशियों ने कर रखा है गिरफ्तार मुझे

तेरी मुस्कान पर आ रहा है प्यार मुझे ,,, इस कदर अच्छा लग रहा है तेरा दीदार मुझे । जी तो करता है तेरी याद में गुजरे हर पल ,,,, दूर ले जाते है दुनिया से मेरे ही अब विचार मुझे । जुल्फ सुलझी है न सुलझेगी मेरे इस सच की कभी ,,,,, इक तेरा इशारा जगा जाता है मुझे । बात ये ख्वाब में भी मेने सोची न थी कभी ,,,खूब कर रखा है खुशियों ने गिरफ्तार मुझे ।

Monday, June 27, 2011

पुलिस और रिफोर्म दो अलग अलग महत्त्व के नाम है पुलिस के कार्यो में रिफोर्म की आवश्यकता महसूस की गई इसलिए इसे जोड़ कर पुलिस रिफोर्म इंडिया बनाया गया था । समय समय पर बनी कमेटियो ने इसपर रिपोर्ट दी है लेकिन अब खुद सुधार के लिए बनी संस्था ही इन रिपोर्ट को सार्वजनिक करने से डर रही है । आखिर उसे देश की पुलिस पर मोर बनने का मौका मिल गया । यहाँ भी बाते सिर्फ बातो तक ही सिमित रह गई है कई बड़े बड़े लोग इससे जुड़े है लेकिन मतलब की बात हो ही नहीं रही । मुझे लगता है पुलिस रिफोर्म इंडिया अब एक ओपचारिकता निभाने तक सिमित भर रह गयी है ।







Sunday, June 26, 2011

मेरे सतगुरु मुझसे नाराज मत होना .



मेरे सतगुरु मेरे ऊपर तुम्हारी असीम कृपा है हर पल मुझे तुम्हारी ही टेक है। एक राजा को भी इतना आराम नहीं मिलता होगा जितना तुम्हारी कृपा से मुझे मिलता है । तेरी रहमत है। मेरी तरफ से में तुम्हारे लिए कुछ भी नहीं कर पाया हूँ । बिलकुल थोड़ा सा ही सिमरन थोड़ा सा सत्संग और सेवा तो बिलकुल भी नहीं कर पाताहूँ । मेरे अवगुणों को न देखते हुए तुमने मुझपे रहमत की है । फिर भी मुझे अहंकार आ जाता है तो ठोंकरे मिलती है लेकिन तुम संभाललेते हो । मेरे जैसे करोडो नासमझ लोगो का ही तुम उद्धार करने ही निरंकार से साकार रूप में तुम आये हो । तुम मुझसे कभी नाराज मत होगा मेरे सतगुरु । तुम्हारा सिर्फ तुम्हारा । मुरली

Saturday, June 25, 2011

मोबाइल टावर गिरा तो नगर निगम जिमेदार नहीं .

अगर कोई मोबाइल टावर गिरता है और उससे किसी की जान माल की हानि होती है तो नगर निगम की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी। रुपयों की लालच में नगर निगम के अधिकारिओं ने यह भी नहीं देखा है की टावर मकानों की उपरी छतो पर लगा दिए गए है। एन ओ सी जारी करने वाले निगम के अधिकारी यह नहीं देखते की प्राकृतिक आपदा आने पर कितना खतरनाक नुकसान हो सकता है । ज्यादातर टावर रिहाइशी जगहों पर लगे है । यह भी । तो एक भ्रस्टाचार का नमूना है । यह सिर्फ कटनी नहीं सभी जगह का हाल है ।

हर इंसान को एक दुसरे की आवश्यकता का अहसास रहें.

अपने हितों का ख्याल रखना कोई बुरी बात नहीं , लेकिन यदि हम अपने हितों तक ही सीमित होकर रह जाए और केवल अपनी स्वार्थपूर्ति के लिए ही प्रयास करे तो हमारा स्वार्थ बुरा सिदथ होगा । प्रकर्ति के नियमो में प्रत्येक व्यक्ति का स्वार्थ एक दुसरे व्यक्तियों के साथ इसलिए जुड़ा हुआ है ताकि हर इंसान को एक दुसरे की आवश्यकता का अहसास रहे। स्वाभाविक बात है की जब एक व्यक्ति केवल अपने ही स्वार्थ के लिए सोचेगा तो उसका स्वार्थ अवश्य दूसरों के स्वार्थ के साथ टकराएगा । ऐसी स्थिती में यदि इंसान परस्पर समझोते की राह नहीं अपनाएगा और अपनी स्वार्थपूर्ति के लिए हर योग्य अयोग्य साधन अपनाने का प्रयत्न करेगा तो उसकी जिद अवश्य दुसरो के लिए परेशानी बनेगी और दुसरे इस बात को बर्दाश्त नहीं करेंगे.





पुलिस रेफोर्म इंडिया और रेफोर्म की दिशा में क्या उठे है कदम ?

आजादी के बाद से पुलिस की कार्यप्रणाली में सुधार की जरुरत महसूस हुई क्योकि यह समझा गया की पुलिस के लिए यह जरुरी है इसलिए पुलिस रिफोर्म बनाया गया । इस विषय पर कई कमेटियां बनी जिन्होंने अपनी रिपोर्ट सरकारों को सोंपी है लेकिन इस पर क्या सुधार आदि किया गया है यह देश का आम आदमी नहीं जानता है। इसलिए पुलिस रेफोर्म इंडिया से यह निवेदन कर रहा हू की ऐसी रिपोर्ट उनके पास हो तो उसे फेसबुक पर सार्वजनिक करे जिससे मेरे जैसे आम आदमी को पता चल सके की सुधार की दिशा में रिपोर्ट्स क्या कहती है और क्या कदम उठाये भी गए है ?


Thursday, June 23, 2011

भाजपा सरकार भू माफियाओं के साथ है ?

मध्य प्रदेश के कटनी शहर की ज्यादातर शासकीय जमीने जो चरनोई या अन्य किसी प्रयोजन के लिए थी उन्हें राजस्व विभाग के पटवारी और तहसीलदारों ने भू माफियाओं के नाम पर कर दिया है । राजस्व निगम मंडल पहाड़ी के ग्राम पड़रवारा की शासकीय जमीने अब भू माफियाओं के कब्जे में है .मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार है तो क्या समझा जाए की इनकी वजह से ही यह सब है क्योकि यह सब हाल के दिनों में हुआ है। सूचना के अधिकार के तहत जानकारी भी नहीं दी जाती है ।